Deepawali

diwali

कार्तिक कृष्ण (१५) अमावस्या : वीर निर्वाण कल्याणक महोत्सव (दिवाली महोत्सव)

दीपावली हम सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है, इसी दिन हम सभी के इष्ट २४ वे तीर्थंकर भगवान् महावीर को निर्वाण प्राप्त हुआ था |
कार्तिक कृष्ण की १४ की रात व कार्तिक कृष्ण की अमावस्या की प्रातः वेला में भगवान् महावीर ने बाकी बचे हुए ४ अघातिया कर्मों को नष्ट कर के मोक्ष लक्ष्मी को प्राप्त किया और इसी दिन कार्तिक कृष्ण अमावस्या की सायं काल की शुभ वेला में भगवान् महावीर के प्रथम गणधर गौतम स्वामी को केवल ज्ञान प्राप्त हुआ |

ततस्तुः लोकः प्रतिवर्षमादरत् प्रसिद्धदीपलिकयात्र भारते |
समुद्यतः पूजयितुं जिनेश्वरं जिनेन्द्र-निर्वाण विभूति-भक्तिभाक् |२० |

translation :The gods illuminated Pava-nagri by lamps to mark the occasion. Since that time, the people of Bharat celebrate the famous festival of “Dipalika” to worship the Jinendra (i.e. Lord Mahavira) on the occasion of his nirvana.
अनुवाद: इस दिवस को हर्षोल्लास से मानाने के लिए देवों द्वारा दीपमालिकाएं प्रज्वलित की गयीं, जिसको देख कर के भारत वासी भगवान् जिनेन्द्र (महावीर) के निर्वाण उत्सव को दिवाली के रूप में मानाने लगे |

शुभ दिवाली, happy diwali

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s